सबरीमाला मंदिर मुद्दे पर शीघ्र सुनवाई से सुप्रीम कोर्ट का इंकार

नई दिल्ली ।  केरल के प्रसिद्ध सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश के मामले सुप्रीम कोर्ट ने संविधान पीठ के खिलाफ दायर पुनर्विचार याचिका पर जल्द सुनवाई से इनकार कर दिया है। भारत के मुख्य न्यायधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा कि मंदिर 5 और 6 नवंबर को 24 घंटे के लिए खुलेगा। पुनर्विचार याचिका पर 11 नवम्बर के बाद ही सुनवाई की जाएगी। ज्ञात हो कि नेशनल अयप्पा डिवोटी एसोसिएशन संस्था सहित करीब 19 पुनर्विचार याचिका अब तक सुप्रीम कोर्ट में दाखिल हो चुकी है। याचिका में कहा गया है कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला केरल के लोगों की धार्मिक भावनाओं के पहलू को अनदेखा कर दिया गया है, इसलिए कोर्ट द्वारा 28 सितंबर को दिया गया फैसला असंवैधानिक है। ऐसे में कोर्ट अपने फैसले पर पुनर्विचार करें।गौरतलब है कि याचिकाकर्ता द इंडियन यंग लायर्स एसोसिएशन' ने सबरीमाला स्थित भगवान अयप्पा के इस मंदिर में पिछले 800 साल से महिलाओं के प्रवेश पर लगे प्रतिबंध को चुनौती दी थी। याचिका में केरल सरकार, द त्रावनकोर देवस्वम बोर्ड और मंदिर के मुख्य पुजारी सहित डीएम को 10 से 50 आयु वर्ग की महिलाओं के प्रवेश की अनुमति देने की मांग की थी। इस मामले में सात नंवबर 2016 को केरल सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को सूचित किया था कि वह मंदिर में सभी आयु वर्ग की महिलाओं के प्रवेश के समर्थन में है। कोर्ट के आदेश के बाजवूद भारी विरोध के कारण अभी तक सबरीमाला मंदिर में अभी तक 10 से 50 साल तक की कोई महिला प्रवेश नहीं कर पाई है। 800 साल पुरानी प्रथा पर देश की शीर्ष अदालत ने अपना सुप्रीम फैसला सुनाते हुए नारियों को सबरीमाला मंदिर में जाने की इजाजत दी है। अब सबरीमाला मंदिर में महिलाएं भी भगवान अयप्?पा के दर्शन कर सकती हैं।मंदिर की इस प्रथा को शीर्ष अदालत की एक पीठ ने गैर कानूनी घोषित किया। यह मंदिर केरल की राजधानी तिरुवनंतपुरम से 175 किलोमीटर दूर पहाड़ियों पर स्थित है। यह मंदिर चारों तरफ से पहाड़ियों से घिरा हुआ है। यहां आने वाले श्रद्धालु सिर पर पोटली रखकर पहुंचते हैं।

आपके विचार

 
 

View Comments (0)