प्रतिबंध के बावजूद वजीरएक्स पर क्रिप्टो ट्रेडिंग में मासिक आधार पर 35 प्रतिषत की वृद्धि

नई दिल्ली, भले ही भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) द्वारा क्रिप्टो ट्रेडिंग पर प्रतिबंध से तेजी से बढ़ रहे इस क्षेत्र को झटका लगा हो, लेकिन मुंबई स्थित वजीरएक्स ने मासिक आधार पर 35 प्रतिषत की वृद्धि दर्ज की है। ब्लाकचेन इकोनोमी में हरेक भारतीय को जोड़े रखने के अपने विजन को साकार करते हुए वजीरएक्स ने आरबीआई के प्रतिबंध के बावजूद अपने कारोबार को मजबूती से बरकरार रखा है। अपनी प्रतिबद्धता, इच्छा षक्ति और नवीनतम दृश्टिकोण की वजह से वजीरएक्स मौजूदा समय में 35 करोड़ रुपये से अधिक के मासिक कारोबार का प्रबंधन कर रही है।आरबीआई के प्रतिबंध के बाद कई प्रमुख क्रिप्टो स्टार्टअप और एक्सचेंजों को अपने कारोबार बंद करने या उनमें बदलाव लाने के लिए बाध्य होना पड़ा था। इन चुनौतीपूर्ण हालात में वजीरएक्स ने क्रिप्टो ट्रेडिंग और ब्लाॅकचेन के लिए अपनी प्रतिबद्धता बरकरार रखने का निर्णय लिया, हालांकि उसे कानूनी माहौल और अनुपालन के तहत अपने परिचालन में बदलाव लाना पड़ा है।प्रतिबंध के बावजूद वजीरएक्स ने पी2पी माॅडल को षुरू करने की घोशणा की थी जिसमें वह डिजिटल परिसंपत्तियों और डायरेक्ट पीर-टु-पीर ट्रांसफर को सुगम बनाने पर जोर देगा। कंपनी ने पी2पी ट्रांजेक्षन को सुगम बनाने के प्रयास में डाॅलर द्वारा समर्थित काॅइन टीथर को भी लाॅन्च किया। नवीनतम दृश्टिकोण के साथ साथ संस्थापक टीम की प्रतिबद्धता की वजह से वजीरएक्स साप्ताहिक तौर पर करोड़ों रुपये का पी2पी कारोबार कर रही है।वजीरएक्स के सह-संस्थापक एवं सीईओ निष्चल षेट्टी ने इस मजबूत वृद्धि पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा, ‘हम यह घोशणा कर वाकई बेहद उत्साहित हैं कि वजीरएक्स पर मासिक क्रिप्टो कारोबार 35 करोड़ रुपये को पार कर गया है। जहां आरबीआई के प्रतिबंध के बाद भारत में क्रिप्टो ट्रेडिंग के भविश्य पर सवाल खड़ा हो गया है वहीं हम लगातार मजबूती के साथ आगे बढ़े हैं और हमारे उपयोगकर्ताओं ने हमारे प्लेटफाॅर्म में विष्वास दिखाया है। दरअसल, आरबीआई के प्रतिबंध के बावजूद हमने मौजूदा मंदी के बाजार में भी मासिक आधार पर 35 प्रतिषत की वृद्धि दर्ज की है। वृद्धि के आंकड़ों ने हमें एक कदम और आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया है और हम और अधिक तादाद में भारतीयों को ब्लाॅकचेन इकोनोमी और क्रिप्टो ट्रेडिंग के दायरे में लाएंगे।’

आपके विचार

 
 

View Comments (0)