केसरी फिल्म रिव्यू

0
277

अब तक की सबसे रीयल वॉर फिल्म रही ‘केसरी

तिशा वार्ष्णेय
अगर इतिहास की बात करें तो बहुत कम ही फिल्म है बनी जिनमें बखूबी देश के लिए लड़ाइयों का दर्शाया गया हो तथा जिनमें इतिहास को अच्छी तरीके से दिखाया गया है। ऐसी ही एक इतिहास वाली फिल्म आई है ‘केसरी’जो २१ बहादुर सैनिकों की कहानी को दर्शाती जिन्होंने अपने बहादुरी के दम पर १० हजार अफगानियों का डटकर मुकाबला कर एक इतिहास रच दिया। जिसे शायद बहुत ही कम लोग जानते होंगे। ऐसे में ऐसे एक सच को देश के सामने एक फिल्म के माध्यम से लाना वाकई एक मिशाल है। अनुराग जी को एक धन्यवाद तो बनता है। इसलिए इस फिल्म को बाहुबली के बाद की सबसे हटकर फिल्म मानी जायेगी।

कहानी शुरु होती है 1897 की सारागढ़ी की लड़ाई की जहां केवल 21 सिख सैनिकों ने 10 हजार अफगानों की फौज का डटकर सामना किया था। इस लड़ाई को मानवीय इतिहास की सबसे ज्यादा बहादुरी से लड़ी गई लड़ाइयों में से एक माना जाता है।

आज भी केवल भारत ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में इसकी चर्चा की जाती है। इस वॉर फिल्म में सभी एंगलों को बारीकी से दिखाया गया है। कहीं से भी बनावटी जैसासीन नहीं दिखाई दिया।

वहीं हल्की फुल्की हंसी का भी ख्याल रखा गया है क्योंकि कम ही देखा गया है कि ज्यादातर सैनिक जिस बहादुरी के साथ दुश्मनों का मुकाबला करते हैं वहां सैनिकों के बीच होने वाली बातचीत में अधिकतर घर परिवार की बातें शामिल रहती है।


बात करते है फिल्म के निर्देशक अनुराग सिंह की जो कि पंजाबी सिनेमा से ताल्लुक रखते हैं। इन्होंने भी 2007 में रकीब, 2011 में यार अन्नमुल होय पंजाबी, 2012 में जट्ट एंड जूलियट, 2013 में जट एंड जूलियट 2 यस, 2014 में डिस्को सिंह पंजाब 1984, 2017 में सुपर सिंह अब 2019 में केसरी में कलाकारों का चयन बखूबी किया गया जिससे फिल्म केसरी में अक्षय कुमार ने चार चांदउ लगा दिया।

फिल्म का लुक और कहानी ऐसी रखी गई है कि दर्शक फिल्म कहानी और सिख सैनिकों की देशभक्ति से जुड़ा हुआ महसूस करे। फिल्म के दृश्यों को बखूबी दर्शाया गया जहां दर्शक ताली बजाते नजर आते हैं। वहीं गिरीश कोहली और अनुराग सिंह ने अच्छी तरह से यह फिल्म लिखी है। फिल्म के मुख्य रोल हवलदार ईश्वर सिंह (अक्षय कुमार) को बेहतरीन तरीके से निभाया है जिसे ईश्वर सिंह की बहादुरी और देशभक्ति अच्छी तरह पर्दे पर उतारा है। वहीं को एक्टर की बात कर लेते है फिल्म में परिणीति चोपड़ा का किरदार छोटा है लेकिन फिल्म में असरदार है।

फिल्म कही से भी ऐसी नहीं लगी जिसे कहीं से भी कांटी छांटी किया जा सके क्योंकि ऐसे पर्व पर ऐसी फिल्म का आना जिसे दर्शकों ने काफी भुनाया है। गाने भी अच्छे है। हालांकि इस फिल्म को हम १० अंकों में से १० दे सकते हैं। इसलिए देशवासियों को ऐसी फिल्में स्वयं व अपने परिवार को दिखानी चाहिए जिससे उनमें देशभक्ति का जज्बा कायम रह सके।

निर्देशन : अनुराग
निर्मातागण: करण जौहर, अरुणा भाटिया, हिरो यश जौहर, अपूर्व मेहता, सुनीर खेतरपाल
लिखित : अनुराग सिंह, गिरीश कोहली
गीत- संगीत : तनिष्क बागची, अर्को प्रावो मुखर्जी, चिरंतन भट्ट, जसबीर जस्सी आदि
छायांकन : अंशुल चौबे
संपादित : मनीष मोर द्वारा संपादित
प्रोडक्शन: धर्मा प्रोडक्शंस
कंपनी: केप ऑफ गुड फिल्म्स
एज़्योर एंटरटेनमेंट
वितरक: ज़ी स्टूडियो
रिलीज़ : 21 मार्च 2019
बजट: लगभग १३० करोड़
भाषा : हिन्दी
कलाकार : हवलदार ईशर सिंह के रूप में अक्षय कुमार
परिणीति चोपड़ा, जीवन कौर के रूप में
टाकलू के रूप में जसप्रीत सिंह
सिपाही जीवन सिंह के रूप में विवेक सैनी
गुलाब सिंह के रूप में विक्रम कोचर
तोरंज केवोन को गुलवारी के रूप में
नाइक लाल सिंह के रूप में सुविंदर विक्की
लांस नायक चंदा सिंह के रूप में वंश भारद्वाज
गुरमीत सिंह के रूप में सुमीत सिंह बसरा
नंद सिंह के रूप में अजीत सिंह महेला
बूटा सिंह के रूप में संदीप नाहर
दया सिंह के रूप में हरविंदर सिंह
भोला सिंह के रूप में राकेश शर्मा
उत्तम सिंह के रूप में प्रवेश शर्मा
हरभगवान सिंह के रूप में भवान सिंह
राम सिंह के रूप में राजदीप सिंह धालीवाल
साहब सिंह के रूप में गुरप्रीत तोती
सुंदर सिंह के रूप में हैरी ब्रार
नारायण सिंह के रूप में पाली संघू
हीरा सिंह के रूप में विक्रम सिंह चौहान
गुगनीत सिंह को जीवन सिंह के रूप में
खान मसूद के रूप में मीर सरवर
अश्वथ भट्ट गुल बादशाह खान के रूप में

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here