मुराइनटोला ट्रांसफार्मर वर्कशाप में भीषण अग्निकाण्ड से करोड़ों का नुकसान

0
171
शीबू खान
घनी आबादी होने से मुहल्लेवासियों में फैली दहशत 
 पांच घण्टे कड़ी मशक्कत के बाद बुझी आग
फतेहपुर। शहर क्षेत्र के घनी आबादी मुराइन टोला स्थित बिजली पावर हाउस के ट्रांसफार्मर वर्कशाप में शुक्रवार की सुबह लगभग पांच बजे अचानक आग लग गयी। देखते ही देखते आग ने विकराल रूप धारण करते हुए पूरे वर्कशाप को अपनी चपेट में ले लिया। उठती हुयी आग की लपटे व धुंआ देखकर आस-पास के रिहायशी लोग सड़कों पर उतर आये। पूरे मुहल्ले में दहशत का माहौल व्याप्त हो गया। फायर ब्रिगेड की कई टीमों ने पांच घण्टे कड़ी मशक्कत करके आग पर काबू पाया। इस अग्निकाण्ड में करोड़ों रूपये की सम्पत्ति राख होने का अनुमान लगाया जा रहा है।
मालूम हो कि सदर कोतवाली क्षेत्र के मुराइटोला इलाके में एक ही कंपाउंड में बिजली विभाग के वर्कशाप के अलावा यहाँ पर विद्युत स्टेशन के साथ ही तीन बड़े स्टोर भी बनाये गए है। घनी आबादी वाले इलाके में स्थित इस वर्कशाप में सुबह लगभग पांच बजे अचानक आग लग गयी। देखते ही देखते आग ने विकराल रूप धारण कर लिया और स्टोर में रखा ज्वलंतशील पदार्थ ने आग पकड़ ली। तेज धुआं व आग की लपटों को देख आस-पास के लोगों में दहशत का माहौल व्याप्त है। आग लगने के चलते यहाँ बिजली विभाग के स्टोरों में रखा सारा सामान जलकर राख हो गया। घनी आबादी वाले इलाके में स्थित इस पवार स्टेशन में आग लगने से पूरे इलाके में दहशत फैल गई। दहशत के मारे लोग अपने घरों से बाहर निकल आए आग लगने की सूचना के बाद बिजली विभाग के आलाधिकारी एवं जिले के अन्य अफसर मौके पर पहुंच गए। तत्काल फायर ब्रिगेड को अग्निकाण्ड की सूचना दी गयी। सूचना पर दमकल विभाग अपनी दो गाडि़यों के साथ मौके पर पहुंच गया और आग बुझाने के प्रयासों में जुट गया। लेकिन दो घण्टे तक आग पर काबू नहीं पाया जा सका। जिस पर दकमल विभाग ने निकटतम जिले के फायर सर्विस को भी सूचना देकर बुलवाने का काम किया। आधा दर्जन गाडि़यों ने लगातार मेहनत करके लगभग पांच घण्टे बाद आग पर काबू पाया। इस अग्निकाण्ड में विभाग को करोड़ों की क्षति का अनुमान लगाया जा रहा है।
शार्ट सर्किट से आग लगने की आशंका
 मुराइन टोला पावर हाउस स्थित ट्रांसफार्मर वर्कशाप में बिजली शार्ट सर्किट से आग लगने की आशंका जताई जा रही है। वर्कशाप में बड़ी संख्या में तेल भरे ड्रम और अन्य ज्वलनशील पदार्थ रखे होने से वह चपेट में आ गए और आग ने विकराल रूप ले लिया। विभाग के उच्चाधिकारियों के मुताबिक वर्कशाप में करोंड़ों के तार, ट्रांसफार्मर, कापर वायर समेत अन्य सामान रखे हुए थे। आग की विभीषिका को देखते हुए किसी भी सामान के बचने की उम्मीद नहीं दिख रही है। विभाग को बड़ी क्षति हुयी है। 
नियमों का हो रहा था उल्लंघन
ट्रासफार्मर के वर्कशाप में करोड़ों का सामान और ज्वलंतशील पदार्थ होने के बाद भी विभाग द्वारा फायर ब्रिग्रेड के नियमों का पालन नहीं किया जा रहा था। फायर बिग्रेड के कर्मचारियों ने बताया कि वर्कशाप में आग बुझाने के लिए कोई उपकरण मौजूद नहीं था। आलम यह था कि बालू और पानी तक की व्यवस्था नहीं थी। वर्कशाप में आग बुझाने के उपकरण होते तो बड़ी घटना टाली जा सकती थी।
तीन वर्ष पूर्व भी हुयी थी ऐसी ही घटना
 मुराइन टोला पावर हाउस में वर्ष 2016 में भी शार्ट सर्किट से भीषण आग लगी थी। विभाग के मुताबित उस घटना में भी करोड़ों की सपत्ति जलकर राख हो गई थी। लेकिन बड़ी घटना होने के बाद भी बिजली अफसरों सबक नहीं लिया। विभाग की इस लापारवाही से सैकड़ों परिवारों की जान खतरे में पड़ गयी थी। फायर ब्रिग्रेड कर्मचारियों ने बताया कि बिजली विभाग की लापरवाही बड़ी जनहानि की आशंका को बल दे रही थी। जल्द ही मामले में विभाग बड़ी कार्रवाई के लिए लिखापढ़ी करेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here