एम बी बी एस तृतीय वर्ष के 8 छात्र-छात्राये इलेक्ट्रॉनिक्स डिवाइस से नकल करते गिरफ्तार

0
92

 

सभी छात्र- छात्राये सरस्वती मेडिकल कालिज में अध्यन्नरत
कानो में चिप एवम टी शर्ट में तारो की फिटिंग से लगी थी डिवाइस
होट फड़फड़ाने से शंका पर उड़नदस्ते ने किया गिरफ्तार
डिवाइस के जरिये बाहर से प्रश्नों के उत्तर बताये जा रहे थे छात्र-छात्राओं को

हापुड। कोतवाली सिटी क्षेत्र के दिल्ली रोड पर स्थित एसएसबी डिग्री कॉलेज में एमबीबीएस के थर्ड ईयर की परीक्षा चल रही थी जिसमें सरस्वती मेडिकल इंस्टीट्यूट के एमबीबीएस के छात्र एमबीबीएस तृतीय वर्ष की परीक्षा दे रहे थे। इसी दौरान कुछ छात्रों की संदिग्ध गतिविधियों जैसे होट फड़फड़ाना को देखते हुए क्लास में मौजूद अध्यापक को उन पर कुछ शक हुआ। उसके बाद मौके पर फ्लाइंग स्क्वॉड को बुलाया गया और सभी छात्रों की सघन चेकिंग की गई चेकिंग के दौरान तीन लड़कियां और 5 लड़के एक विशेष प्रकार की इलेक्ट्रॉनिक माइक्रोचिप के माध्यम से नकल करते हुए पाए गए पकड़े गए सभी छात्रों ने एक काले रंग की टी-शर्ट पहनी हुई थी जिस पर अनेक प्रकार की तारे और चिप इंस्टॉल थी एक माइक्रो चिप इन छात्रों के कान में भी लगी हुई थी जिसके माध्यम से यह सभी छात्र नकल कर रहे थे यह डिवाइस कॉलेज की परिधि में ही बैठे किसी अन्य व्यक्ति द्वारा संचालित की जा रही थी

इस धरपकड़ की कार्यवाही के बाद उस अनजान व्यक्ति की तलाश भी की जा रही है जिससे इस पूरे नकल के स्कैंडल का खुलासा किया जा सके सभी छात्र उस माइक्रोचिप के माध्यम से बोल कर अपने सवालों के जवाब बाहर बैठे व्यक्ति से प्राप्त कर रहे थे जिनको कॉलेज की जांच टीम ने नकल करते हुए रंगे हाथ पकड़ लिया मामले की सूचना पुलिस को भी दी गई मौके पर पहुंची पुलिस ने सभी इलेक्ट्रॉनिक डिवाइसेज को अपने कब्जे में ले लिया है और पकड़े गए सभी छात्रों से पूछताछ की जा रही है।
इस सम्बंध में हमारे संवाददाता लोकेश बंसल ने जब एक अभियुक्त छात्र से इस सम्बंध में पूछा तो उसने बताया कि वह सभी नेशनल हाइवे स्थित सरस्वती मेडिकल कालिज एवम हॉस्पिटल से एम बी बी एस कर रहे है तथा वही से कुछ रुपयों में उन्हें किसी व्यक्ति ने यह डिवाइस उपलब्ध कराई है।

अब इस सम्बंध में देखने वाली सबसे बड़ी बात यह है कि सभी गिरफ्तार छात्र तमिलनाडू प्रदेश के है क्या वही से ऐसी कोई डिवाइस की व्यवस्था छात्र- छात्राओं को किसी नकल कराने वाले एक्सपर्ट ने उपलब्ध कराई या सरस्वती मेडिक्ल कालिज के ही प्रबन्धक कमेठी में कोई इसका दोषी है यह तो जांच का विषय है कब तक पुलिस प्रशासन इस तरफ असली मुन्ना भाई तक पहुचेगा या बड़ी पहुच के चलते इन आठो छात्र- छात्राओं का भविष्य अंधकारमय होकर रह जायेगा।और असली मुजरिम इसी प्रकार छात्र-छात्राओं का जीवन अंधकारमय कर मौज लेता रहेगा?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here