मथुरा पुलिस की तिकड़ी ने किया कमाल

0
117
एटीएम लुटेरे धर दबोचे,
पौने नौ लाख बरामद,
तीन गिरफ्तार,
5 फरार, स्वाट टीम का मिल सकता है प्रभार
25 हजार का मिला इनाम,

दीपक चतुर्वेदी बैंकर
मथुरा (श्रीजी एक्सप्रेस)। जनपद की पुलिस में तैनात तीन तिकड़ी ने एक बार फिर से कमाल कर दिखाया और पुलिस की आंखों में धूल झोंक कर छाता क्षेत्र से एटीएम में रखी लाखों रुपए की नकदी को लेकर भागने वाले लुटेरों को आखिरकार नकदी के साथ धर दबोचा। 5/6 फरवरी को छाता क्षेत्र में आईसीआईसीआई बैंक के एटीएम को उखाड़कर ले जाने वाले शाहिद उर्फ आडवाणी गिरोह के तीन सदस्यों को पुलिस ने पौने नौ लाख रुपए की नकदी के साथ एक मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार कर लिया है। जबकि गिरोह का सरगना अपने चार अन्य साथियों के साथ भागने में सफल रहा। बताया जाता है कि एक सूचना के आधार पर शेरगढ़ विशंभरा रोड पर थानाध्यक्ष छाता हरबेन्द्र कुमार मिश्रा, थानाध्यक्ष शेरगढ़ प्रदीप कुमार, जैत चौकी प्रभारी उपनिरीक्षक सुल्तान सिंह आदि के द्वारा एक मुठभेड़ के बाद तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। जिनसे पौने नौ लाख रुपये की नकदी के अलावा तीन तमंचे और कारतूस तथा चोरी की ईको कार संख्या एचआर 51/ए डब्ल्यू 6987 तथा एटीएम को उखाड़ने के उपकरण बरामद हुए हैं। पकड़े गए बदमाशों में जाहुल पुत्र हारून निवासी ग्राम बड़का थाना रोज का मेव जिला नूह मेवात के अलावा मुस्तकीम पुत्र वसीम तथा साहिल पुत्र जाकिर को गिरफ्तार किया है। जबकि गिरोह का सरगना जाहिद उर्फ आडवाणी पुत्र जुम्मा मेम के अलावा उसके चार अन्य साथी मौके से भागने में सफल रहे। सोमवार को पत्रकारों से वार्ता करते हुए वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सत्यार्थ अनिरुद्ध पंकज ने बताया है कि एटीएम के लुटेरों को पकड़ने में अपनी अहम भूमिका अदा करने वाले पुलिस दल को वह अपने स्तर से पच्चीस हजार रुपए का नकद इनाम देंगे।ं जबकि इस राशि को डीआईजी आगरा परिक्षेत्र से बढ़ाने की भी मांग की है। एटीएम चोर गिरोह के द्वारा जनपद के अलावा राजस्थान, हरियाणा, मध्य प्रदेश, दिल्ली आदि स्थानों पर भी दर्जनों ऐसी वारदातों को अंजाम दिया है। थानाध्यक्ष हरबेन्द्र कुमार मिश्रा, थाना अध्यक्ष शेरगढ़ प्रदीप कुमार, जैंत चौकी प्रभारी उपनिरीक्षक सुल्तान सिंह आदि की विशेष भूमिका रही हैं। उल्लेखनीय है कि छाता क्षेत्र में एटीएम लूट कांड पुलिस प्रशासन के लिए एक बड़ी चुनौती बना हुआ था। जिसको लेकर पुलिस विभाग लगातार अपराध के खुलासे में लगा हुआ था। सूत्रों का कहना है कि जनपद पुलिस में तैनात उप निरीक्षक हरबेन्द्र कुमार मिश्रा, प्रदीप कुमार और सुल्तान सिंह की तिकड़ी के द्वारा पुलिस प्रशासन की नाक का विषय बन चुके इस अपराध का आखिरकार खुलासा कर दिया। पुलिस सूत्रों का कहना है कि तीनों ही पुलिस अधिकारियों को एक बार फिर से चुनाव बाद अथवा चुनाव आयोग के अधिकारियों से संस्तुति लेकर स्वाट टीम का प्रभार दिया जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here