युनियन बैंक ऑफ इंडिया ने अपना 10वां स्थापना दिवस मनाया

0
58

मुम्बई (श्रीजी एक्सप्रेस)।
युनियन बैंक ऑफ इंडिया ने अपना 101वां स्थापना दिवस 11 नवम्बर 2019 को नेशनल सेंटर फॉर परफोर्मिंग आर्ट्स (एनसीपीए) मुम्बई में मनाया गया। माननीय वित्त एवं कोर्पोरेट मामलों के राज्य मंत्री , अनुराग ठाकुर मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थे, जो पूरे देश में कई उपभोक्ताओं के लिए शानदार बैंकिंग सेवाओं को प्रदान करने के सौ साल पूरे होने पर आयोजित किया गया था। इसके साथ ही इस अवसर पर भारत सरकार के वित्त सचिव श्री राजीव कुमार, भी उपस्थित थे। इस शाम में प्रख्यात संगीतकार और गायक शंकर महादेवन ने गाना गाया।

वर्ष 1919 में स्थापित और अपने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी द्वारा प्रथम कार्यालय के रूप में आरम्भ किए गए इस बैंक ने स्वतंत्रता के उपरान्त और स्वतंत्रता के आबाद भारत में बैंकिंग परिद्रश्य को आकार देने के लिए एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है और यह देश के आर्थिक विकास में योगदान देता आ रहा है। अपने परिचालनों के सौ वर्षों के माध्यम से यूनियन बैंक ऑफ इंडिया ने निवेश, कृषि, व्यापार, आधारभूत संरचना और अन्य व्यापार श्रेणियों में कई उद्योगों और क्षेत्रों में ऋण दिया है। बैंक के परिचालन पूरे भारत में 4285 शाखाओं के माध्यम से और 70 मिलियन उपभोक्ताओं के क्लाइंट बेस के साथ फैले हुए हैं।

इस यादगार अवसर पर बोलते हुए राज्य वित्त एवं कोर्पोरेट मामलों के मंत्री श्री अनुराग ठाकुर ने कहा मैं युनियन बैंक ऑफ इंडिया को उसकी सेवा के सौ साल पूरे होने पर बधाई देना चाहता हूँ। मौजूदा समय में नए क़दमों और तकनीकी विकास के साथ, आज के समय में एक सिस्टमेटिक, प्रभावी और पारदर्शी बैंक परिचालन की आवश्यकता और भी जरूरी हो गयी है। आगे जाने पर, बैंक का तकनीक आधारित, और उपभोक्ता केन्द्रित द्रष्टिकोण इसे सबसे पसंदीदा बैंक के रूप में उसकी स्थिति सुद्रढ़ करता है।
भारत सरकार के वित्त सचिव राजीव कुमार ने कहा यह युनियन बैंक ऑफ इंडिया के लिए एक ऐतिहासिक घटना है और मैं इस मौके पर उन्हें बधाई देना चाहता हूँ और उम्मीद करता हूँ कि वह आने वाले समय में और भी आगे जाएगा। युनियन बैंक ऑफ इंडिया उपभोक्ता के लाभ के लिए नए उत्पाद लाने में सबसे आगे रहा है और इसके साथ ही वह अब बैंकिंग उद्योग में शीर्ष स्थिति हासिल करने के अपने सपने पर आगे बढ़ रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here