‘भाखरवड़ी’ में क्यों दुविधा में पडी है गायत्री?

0
84

मुबंई। ‘भाखरवड़ी’ सीरियल लोगो को काफी पंसद आ रहा है। इस हल्के-फुल्के कॉमेडी शो में देवेन भोजानी गोखले परिवार के मुखिया अन्ना के किरदार में हैं और परेश गनात्रा, ठक्कर परिवार के मुखिया महेंद्र ठक्कर की भूमिका में हैं। दोनों ही परिवार भाखरवड़ी के बिजनेस में एक-दूसरे को टक्कर दे रहे हैं और इसके अलावा इस शो में अन्य चीजें भी दिखायी गयी हैं।
गोखले और ठक्कर परिवार में थोड़ी बहुत खींचतान के बावजूद यह शो लगातार लोगों को हंसा रहा है। गायत्री के स्नैक्स कई सारे युवा ग्राहकों को लुभा रहा है वहीं बाद में अन्ना यह जानकर बेहद गुस्सा हो जाते हैं कि गोखले बंधू की भाखरवड़ी लौट आयी है। केशव इस मौके का फायदा उठाते हुए अन्ना को समझता है कि वह अपनी दुकान में स्नैक्स की और भी वैरायटी रखे। वहीं दूसरी तरफ, अन्ना, अभिषेक के साथ शादी के लिये परफेक्ट कोंकणस्थ ब्राह्मण लड़की ढूंढ रहे हैं और वह गायत्री (अक्षिता मुद्गल) को उसे प्रजाक्ता से शादी करने के लिये मनाने के लिये कहते हैं। गायत्री खुद अभिषेक (अक्षय केलकर) के लिये अपनी भावनाओं से जूझ रही है। गायत्री के सामने बहुत बड़ी दुविधा में पड़ गयी- क्या उसे अभिषेक के लिये अपनी भावना को छोड़ना चाहिये या उसे अभिषेक के भविष्य और अन्ना की इच्छा के बारे में सोचना चाहिये?
गायत्री क्या फैसला करेगी? क्या वह अभिषेक के लिये अपनी भावनाओं को व्यक्त करेगी या फिर उसे जाने देगी?
गायत्री की भूमिका निभा रहीं, अक्षिता मुद्गल कहती हैं, ‘गायत्री अभिषेक को लेकर अपनी भावनाओं और अन्ना की इच्छा का मान रखने के बीच संघर्ष कर रही है। यह देखना बहुत ही दिलचस्प होगा कि वह क्या निर्णय लेगी। मुझे गायत्री की भूमिका निभाने में मजा आ रहा है, जिसमें कई मजेदार रंग हैं और हमारे शो को जितना प्यार मिल रहा है उससे मैं बहुत खुश हूं।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here